Aapke Bina Hum Jiye Bhi To Kaise Love – आपके बिना हम जिए  भी तो कैसे लव शायरी !

आँखों के सामने हर पल आपको पाया हैं अपने दिल में भी सिर्फ आपको ही बसाया हैं आपके बिना हम जिए  भी तो कैसे भला जान के बिना भी कोई जी पाया हैं

Aankhon Ke Saamane Har Pal Aapako Paaya Hain Apane Dil Mein Bhee Sirph Aapako Hee Basaaya Hain Aapake Bina Ham Jie Bhee To Kaise Bhala Jaan Ke Bina Bhee Koee Jee Paaya Hain

Kitna Tanha Hai Ek Hajaaron Mein Love Shayari

जब भी कभी आप चाँद  को देखो तो याद करना हमे ये सोचकर नहीं की कितना चमकता है वो उन सितारों में बल्कि ये सोच कर कितना तनहा है वो हजारों में

Jab Bhee Kabhee Aap Chaand Ko Dekho To Yaad Karana Hame Ye Sochakar Nahin Kee Kitana Chamakata Hai Vo Un Sitaaron Mein Balki Ye Soch Kar Kitana Tanaha Hai Vo Hajaaron Mein..!!

और शायरी पढ़े 😉

55+ Love Shayari in hindi – 55 से ज्यादा लव शायरी हिंदी में !

प्रिय पाठक आज हम आपके लिए love shayari पर 55 से ज्यादा शायरी लेकर आये है अगर आप लव शायरी की खोज में थे तो आपकी खोज यही समाप्त होती है और आप अपने लवर्स को बहुत ही उम्दा उम्दा शायरी शेयर कर सकते है और अपने पार्टनर के मन को अच्छा कर सकते है क्या आप Shayari on love पोस्ट को पढने के लिए रेडी है अगर आपका जवाब हा है तो अब आप love shayari hindi पोस्ट पढ़ सकते है

love shayari,love shayari in hindi,love shayari hindi,Hindi love shayari post पढ़े 😉 

पहले कभी  ये यादें ये तनहाई ना थी   कभी दिल पे मदहोशी  छायी ना थी जाने क्या असर कर गयीं उसकी बातें वरना इस  तरह कभी  याद किसी की आयी ना  थी

जब भी कभी आप चाँद  को देखो तो याद करना हमे ये सोचकर नहीं की कितना चमकता है वो उन सितारों में बल्कि ये सोच कर कितना तनहा है वो हजारों में

वो वक्त वो लम्हे अजीब होंगे  दुनियाँ में हम खुश नशीब होंगे दूर से जब इतना  याद करते हैं आपको क्या हाल होगा जब आप हमारे करीब होगे.

आँखों के सामने हर पल आपको पाया हैं अपने दिल में भी सिर्फ आपको ही बसाया हैं आपके बिना हम जिए  भी तो कैसे भला जान के बिना भी कोई जी पाया हैं

आज फिर पल खूबसूरत है दिल में बस तेरी ही सूरत है कुछ भी कहे दुनिया हमें कोई गम नहीं दुनिया से ज्यादा मुझे तेरी जरूरत है

आपकी अदा से हम मदहोश हो गये आप नॆ पलट कर देखा तो हम बॆहोश हो गये यही एक बात कहनी थी आपसॆ ना जाने क्यूँ आपको दॆखतॆ  ही हम खामोश हो गये

आपने कहा मोहब्बत पूरी  नहीं होती हम कहते हैं हर बार ये बात जरुरी नहीं होती   मोहब्बत तो वो भी करते हैं उनसे जिन्हें  पाने की कोई उम्मीद नहीं होती

इस कदर  हम यार को मनानॆ निकलॆ उसकी चाहत के हम दीवाने निकलॆ जब भी  उसॆ दिल का हाल बताना चाहा तो उसकॆ  होंठों से वक्त ना होनॆ के बहानॆ निकलॆ

उनका हाल भी कुछ आप जैसा ही होगा आपका हाले दिल उन्हें भी महसूस होगा बेकरारी के आग में जो जल रहे  हैं आप आपसे  ज्यादा उन्हें इस जलन का एहसास होगा.

उसकी याद हमें बेचैन बना जाती  हैं हर जगह  हमें उसकी सूरत  नज़र आती हैं कैसा हाल किया हैं मेरा आपके प्यार ने नींद भी आती हैं तो आँखे बुरा मान जाती हैं.

उसको बस  इतना बता  देना इतना आसान नहीं हैं तुम्हे भुला देना. तेरी  यादें भी तेरे जैसी ही हैं उन्हें  आता है बस रुला देना 

एक रात वो मिले ख्वाब में हमने पुछा क्यों ठुकराया आपने जब  देखा तो उनकी आँखों में भी आंसू थे फिर कैसे पूछते क्यों रुलाया आपने

एय मेरी जिन्दगी यूँ मुझसे दगा ना कर उसे भुला  कर जिन्दा रहू दुआ ना कर कोई उसे देखता हैं तो होती हैं तकलीफ एय हवा तू भी उसे छुवा ना कर

कभी खुशी की आशा  कभी गम की निराशा कभी खुशियों की धूप कभी हक़ीक़त  की छाया  कुछ खोकर कुछ पाने की आशा शायद यही है ज़िंदगी  की सही परिभाषा

कल हलकी सी बरसात में हो गयी मुलाक़ात उनसे नज़रों की शबनम ने जैसे कर ली हो हर बात उनसे उनकी आँखों में थी ऐसी  कशिश के क्या कहें मेरे जिस्म के रोम रोम ने कर ली मोहब्बत उनसे

काश वो नगमे सुनाये ना होते आज उनको सुनकर ये आंसू आये ना होते अगर इस तरह भूल जाना ही था तो इतनी गहरायी से दिल में समाये ना होते 

कोई वादा नहीं फिर भी प्यार है जुदाई के बावजूद भी तुझपे अधिकार है तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही मुझसे मिलने को तू भी बेक़रार है

कोई शाम आती है तुम्हारी याद लेकर कोई शाम आती है तुम्हारी याद देकर हमे तो इंतजार है उस शाम का जो आये तुम्हे साथ लेकर

खाली खाली न यूँ दिल का मकां रह जाये तुम गम-ए-यार से कह दो कि यहां रह जाये रूह भटकेगी तो बस तेरे लिये भटकेगी जिस्म का क्या भरोसा ये कहां रह जाये 

ख्वाबो में मेरे आप रोज  आते हो कभी दर्द कभी खुशियाँ दे जाते हो कितना प्यार करते हो आप मुझ से शिर्फ़ मेरे इस सवाल का जबाब टाल जाते हो.”

चुपके से धड़कन में उतर जायेंगे राहें उल्फत में हद से गुजर जायेंगे आप जो हमें इतना चाहेंगे हम तो आपकी साँसों  में पिघल जायेंगे.”

जब भी उनकी गली से गुज़रता हूँ मेरी आंखें एक दस्तक दे देती है दुःख ये नहीं वो दरवाजा बंद कर देते है खुशी ये है वो मुझे अब भी पहचान लेते हैं

तकदीर ने जैसा चाहा ढल  गये हम यूं तो संभल कर चले थे फिर भी फिसल गये हम अपना यकीन है कि दुनिया बदल गयी पर सबका खयाल है कि बदल गये हम

तरस गये आपके दीदार को दिल फिर भी आपका इंतज़ार करता है हमसे अच्छा तो आपके घर का आईना है जो हर रोज़ आपका दीदार करता है

तुझसे मिलने की बेताबी का वो अंजाम कैसे भुला दूँ तेरे लवो की हँसी और आँखों की जाम कैसे भुला दूँ दिल तो हमारा भी तड़पता हैं तेरा साथ पाने को पर इस जहाँ के रश्मो रिवाज कैसे भुला दूँ.

तुझे  भूलकर भी  न भूल  पायेगें हम   बस यही  एक वादा  निभा पायेगें हम मिटा देंगे खुद को भी  जहाँ से लेकिन तेरा नाम दिल से न मिटा  पायेगें हम

तुम्हारी यादो की महक इन  हवाओ मॆ है प्यार ही प्यार बिखरा इन फिजाओ मॆ है ऎसा न कि दुरीया दर्द बन  जायॆ अब तो आप  कॆ आनॆ का इंतजार इन निगाहों  को है

तेरा ख़याल तेरी आरजू   न गयी मेरे दिल से तेरी जुस्तजू न गयी इश्क में सब कुछ लुटा दिया हँसकर मैंने मगर तेरे प्यार की आरजू न गयी

तेरी चाहत  में हम ज़माना भूल गये किसी और को हम अपनाना भूल गये तुम  से मोहब्बत हैं बताया सारे जहाँ को बस एक तुझे ही बताना  भूल गये

दिन तेरे ख़याल  में गुजर जाता हैं रातों को भी ख़याल तेरा ही आता हैं कभी ये ख़याल इस तरह बढ़ जाता है की आयने में भी तेरा ही चेहरा नज़र आता हैं.

दिल में कोई और बसा तो नहीं ये चाहत इश्क की ज्यादा तो नहीं सब मुझे चाहने लगे हैं कहीं मुझ में तुम्हारे जैसी कोई अदा तो नहीं

दिल में सिर्फ आप हो और कोई खाश कैसे होगा यादों में आपके सिवा कोई  पास कैसे होगा हिचकियाँ  कहती हैं आप मुझे याद करते हो पर बोलोगे नहीं तो मुझे ये एहसास कैसे होगा.

दिल मेरा अगर रोया न होता हमने भी आँखों को भिगोया न होता दो पल की हंसी में छुपा लेता गमो को ख्वाब को हकीकत में संजोया नहीं होता

दिल लगता नहीं है  अब तुम्हारे बिना खामोश  से रहने लगे है तुम्हारे बिना जल्दी लौट के आओ अब  यही चाह है वरना जी ना पाएँगे तुम्हारे बिना

देर रात जब किसी की याद सताए ठंडी  हवा जब जुल्फों को सहलाये कर लो आंखे बंद और सो जाओ क्या पता जिसका है ख्याल वो खवाबों में आ जाये

दोस्ती उन से करो जो निभाना जानते हो नफ़रत उन से करो जो भूलना जानते हो ग़ुस्सा उन से करो जो मानना जानता हो प्यार उनसे करो जो दिल लुटाना जानता हो

ना जाने मुहब्बत में कितने अफसाने बन जाते है शमां जिसको भी जलाती है वो परवाने बन जाते है कुछ हासिल करना ही इश्क कि मंजिल नही होती किसी को खोकर भी कुछ लोग दिवाने बन जाते है

ना दिल से होता है ना दिमाग से होता है यह प्यार तो इत्तेफाक से होता है पर प्यार करके प्यार ही मिले ये इत्तेफाक किसी किसी के साथ होता है

बेशक वो नहीं करते बात कभी फिर उनसे मिलने को दिल बेकरार क्यों है उनकी याद तो अब रात को सोने भी नहीं देती जाने हमको उनसे इतना प्यार क्यों है

यकीन नहीं तुझे अगर तो आज़मा के देख ले एक बार तू जरा मुस्कुरा के देख ले जो ना सोचा होगा तूने वो मिलेगा तुझको भी एक बार अपने कदम बढ़ा के देख ले

याद तो हर कोई करेगा जाने के बाद सच्चे  प्यार का पता चल जाएगा वख्त आने के बाद कौन  कितनी मुहोब्बत करता है नजर आएगा मर जाने के बाद

ये प्यारी निगाहॆं याद रहॆंगी मिलकर ना मिलने की  अदा याद रहॆंगी मुमकिन नहीं की मॆं तुम्हॆ भुला दुं और उमर भर तुम्हॆ भी मेरी  याद रहॆगी 

रस्मों रिवाज की जो परवाह करते हैं प्यार में वो लोग गुनाह करते हैं इश्क वो जुनून है जिसमें दीवाने अपनी खुशी से खुद को तबाह करते हैं

रात को रात का तोफा नहीं देते दिल को जजबात का तोफा नहीं देते देने को तो हम आप को चाँद भी दे दे मगर चाँद को चाँद का तोफा नहीं देते.

रात गुमसुम  हैं मगर चाँद  खामोश नहीं कैसे  कह दूँ फिर आज मुझे होश नहीं ऐसे डूबा तेरी आँखों के गहराई में आज हाथ में जाम  हैं मगर पिने का होश नहीं

राह तकते है हम उनके इंतज़ार में साँसे भरते हैं उनके एक दीदार में रात न कटती है न होता है सवेरा जबसे दिल के हर कोने में हुआ है आपका बसेरा

रिश्ता हमारा इस जहां में सबसे प्यारा हो जैसे जिंदगी को सांसों का सहारा हो याद  करना हमें उस पल में जब तुम अकेले हो और कोई ना तुम्हारा हो

वो जो हमसे नफरत करते हैं हम तो आज भी सिर्फ उन पर मरते हैं नफरत है तो क्या हुआ यारो कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं

वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए कभी तो समझो मेरी खामोशी को वो बात  ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें

शाम के बाद मिलती है रात हर बात में समाई हुई है तेरी याद बहुत तनहा होती ये जिंदगी अगर नहीं मिलता जो आपका साथ

सामने ना हो तो तरसती हैं आँखे बिन तेरे बहुत बरसती हैं आँखे मेरे लिए ना सही इनके लिए आ जाओ क्यूंकी तुमसे बेपनाह प्यार करती हैं आँखे

सारी उम्र आँखों  में एक सपना याद  रहा सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा जाने क्या बात थी उसमें और मुझ में सारी महफ़िल भूल गए बस वही एक चेहरा याद रहा

सितारों को रौशनी की क्या ज़रूरत ये तो खुद को जला लेते है आशिकों को वफ़ा की क्या ज़रूरत वो तो बेवफा को भी प्यार कर लेते है

सिर्फ चाहने से मुलाकात  नहीं होती सूरज के साथ रात नहीं होती. हम जिसे चाहते है जान से भी ज्यादा सामने होते हुए भी बात नहीं होती

हमदम तो  साथ चलते हैं रास्ते तो बेवफ़ा बदलते  हैं तेरा चेहरा है  जब से आँखों में मेरी आँखों से लोग जलते हैं 

हमारी गलतियों से कही टूट न जाना हमारी शरारत  से कही रूठ न जाना तुम्हारी चाहत ही हमारी जिंदगी हैं इस प्यारे से बंधन को भूल न जाना.

हर वक्त मुस्कुराना फिदरत हैं हमारी आप यूँ ही खुश रहे हसरत हैं हमारी आपको हम याद आये या ना आये आपको याद करना आदत हैं हमारी

Let’s wrap it,

हम उमीद करते है आपको हमारा आज का आर्टिकल Love shayari in hindi पसंद आया होगा अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इस आर्टिकल को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर करें अगर आपको इस पोस्ट से रिलेटेड कोई क्वेरी हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते है

और शायरी पढ़े 😉 

Nazare Karam Mujh Par Itna Na Kar – नजरे करम मुज पर इतना ना कर

love shayari in hindi

नज़रे करम मुझ पर इतना न कर की
तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं
मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की
मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं..!!