तुमसे भी कोई शिकायत ना रही – Tumse Bhee Koee Shikaayat Na Rahee !

जब से देखा है चांद को तन्हा
तुमसे भी कोई शिकायत ना रही

तुम जिंदगी की वह कमी हो – Tum Jindagee Kee Vah Kamee Ho !

तुम जिंदगी की वह कमी हो
जो जिंदगी भर रहेगी

काश दिल भी मेरा उतना खराब होता – Kaash Dil Bhee Mera Utna Kharaab Hota !

काश दिल भी मेरा उतना खराब होता
जितना खराब दिमाग है