100+ 26 January Shayari In Hindi – 100 से भी ज्यादा 26 जनवरी शायरी हिंदी में !

26 January Shayari In Hindi – क्या आप 26 January Shayari के शुभ अवसर पर 26 January के लिए शायरी खोज रहे है तो हम आपको जानकारी देना चाहेंगे की आज हम आपके लिए इस आर्टिक्ल में 100 से भी ज्यादा 26 जनवरी शायरी हिंदी में लाये है हम उनीड करते है आपको पसंद आएगी तो चलिए शुरू करते है आज का आर्टिक्ल 26 January Shayari In Hindi

So Let’s Begin,

बलिदानों का सपना जब सच हुआ तभी देश आजाद हुआ
आओ सलाम करे उन वीरों को
जिनकी शहादत से यह भारत गणतंत्र हुआ

कुछ नशा तिरंगे की आन का
कुछ नशा मातृभूमि की शान का
हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा
है ये नशा हिंदुस्तान की शान का

तैरना है तो समुंदर में तैरो
नदी नालों में क्या रखा है
प्यार करना है तो वतन से करो
इन बेवफा लोगों में क्या रखा है?

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा कर लाए हैं
कितने दीप बुझा कर मिली है यह आजादी
फिर इस आजादी को रखना होगा आज हर एक दुश्मन से  बचाकर

चलो फिर से खुद को जगाते हैं
अनुशासन का झंडा फिर घूमाते हैं
सुनहरा रंग है गणतंत्र का
ऐसे शहीदों के लिए हम सर झुकाते हैं

जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई
जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता

Republic Day Mashup

आओ झुक कर सलाम करे उनको
जिनके हिस्से में यह मुकाम आता है
खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है

ना मरो सनम बेवफा के लिए
2 गज जमीन नहीं मिलेगी दफन के लिए
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए
हसीना भी दुपट्टा उतार देगी कफ़न के लिए

मैं इसका हनुमान हूं
ये देश मेरा राम है
छाती चीर के देख लो
अंदर बैठा हिंदुस्तान है

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची है जो एक बूंद लहू की तब तक
भारत माता का आंचल नीलाम नहीं होने देंगे

26 January Shayari in Hindi

फना होने की इजाजत ली नहीं जाती
यह वतन की मोहब्बत जनाब पूछकर नहीं जाती

ना जियो धर्म के नाम पर
ना मरो धर्म के नाम पर
इंसानियत ही धर्म वतन का
बस जिओ वतन के नाम के नाम पर

कांटो में भी फूल खिलाए
इस धरती को स्वर्ग बनाएं
आओ सबको गले लगाएं
हम गणतंत्र का पर्व मनाए

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है जोर कितना बाजू ए कातिल में है

Republic Day Raazi

इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना
रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना
लहू देखकर की जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को सदा अपनी आंखों में बसाये रखना

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं
इश्क तो करता है हर कोई महबूब पर मरता है हर कोई
कभी वतन को महबूब बना कर कर देखो तुझ पर मरेगा हर कोई

कोई हस्ती कोई मस्ती
कोई चाह पे मरता है
कोई नफरत कोई मोहब्बत
कोई लगाव पे मरता है
ये देंश है उन दिवानों का
यहां हर बन्दा
अपने हिंदुस्तान पे मरता है
26 जनवरी गणतंत्र दिवस की हार्दिक शूभकामनायें

इस दिन के लिए वीरो ने अपना खून बहाया है
झूम उठो देशवासियो गणतंत्र दिवस फिर आया है|
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये

अलग है भाषा धर्म जात
और प्रांत भेष परिवेश
पर हम सब का एक ही गौरव है
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ

तिरंगा हमारा है शान-ए-जिंदगी
वतन परस्ती है वफा-ए-जिंदगी
देश के लिए मर मिटना कबूल है हमें
अखंड भारत के स्वपन का जुनून है हमें

Republic Day Shayari in Hindi

वो शमा जो काम आये अंजुमन के लिए
वो जज्बा जो कुर्बान हो जाये वतन के लिए
रखते है हम वो हौसले भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए

Vande Mataram

वतन हमारा ऐसा कोई न छोड़ पाये
रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये
दिल एक है एक है जान हमारी
हिंदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है

याद रखेंगे वीरो तुमको हरदम
यह बलिदान तुम्हारा है
हमको तो है जान से प्यारा यह गणतंत्र हमारा है

नफरत बुरी है ना पालो इसे
दिलों में ख़लिश है निकालों इसे
न तेरा न मेरा न इसका न उसका
ये सबका वतन है संभालो इसे

जान तो करदी हमने वतन के नाम पर
शान तो करदी हमने वतन के नाम पर
कुर्बानियों से पायी है हमने आजादी
हमारा वतन तो लाखों में एक है
आन भी करदी हमने वतन के नाम पर

नहीं सिर्फ जश्न मनाना नहीं सिर्फ झंडे लहराना
ये काफी नहीं है वतन पर यादों को नहीं भुलाना
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना
हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

देश भक्तो की बलिदान से
स्वतंत्रा हुए है हम
कोई पूछे कोन हो
तो गर्व से कहेंगे
भारतीय है हम

चढ़ गए जो हँसकर सूली
खाई जिन्होंने सीने पर गोली
हम उनको प्रणाम करते है
जो मिट गए देश के लिए
हम उनको सलाम करते है

आज शहीदों ने है तुमको अहले वतन ललकारा
तोड़ो गुलामी की जंजीरें बरसाओ अंगारा
हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा भाई-भाई प्यारा
यह है आजादी का झंडा इसे सलाम हमारा ||
Indian Republic day 2021 की शुभकामनाये

वतन की सर बुलंदी में
हमारा नाम शामिल
गुज़रते रहना है हमको सदा
ऐसे मुकामो से जय हिन्द

Gantantra Diwas Shayari in Hindi
ना पूछो ज़माने से कि क्या हमारी कहानी है
हमारी पहचान तो बस इतनी है कि हम सब हिन्दुस्तानी हैं

तिरंगा लहराएँगे
भक्ति गीत गुनगुनाएंगे
वादा करो इस देश को
दुनिया का सबसे प्यारा देश बनाएँगे

चलो फिर से खुद को जागते है
अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है
सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहिदो के लहू से
ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है |
आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

वतन हमारा मिसाल मोहब्बत की
तोड़ता है दीवार नफरत की
मेरी खुश नसीबी मिली ज़िन्दगी इस चमन में
भुला न सके कोई इसकी खुशबु सातों जनम में

Republic Patriotic Mashup

नहीं सिर्फ जश्न मनाना नहीं सिर्फ झंडे लहराना
ये काफी नहीं है वतन पर यादों को नहीं भुलाना
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना
हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ
यहाँ की चाँदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की
तिरंगा हो कफन मेरा बस यही अरमान रखता हूँ

भारत के गणतंत्र का सारे जग में मान
दशकों से खिल रही उसकी अद्भुत शान
सब धर्मो को देकर मान रचा गया इतिहास का
इसलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास
गणतंत्र दिवस की ढ़ेरो शुभकामनाए

मेरा मुल्क मेरा देश मेरा
यह वतन शांति का उन्नति का
प्यार का चमन हैप्पी रिपब्लिक

वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई
रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई
दिल हमारा एक है एक है हमारी जान
हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान

आन देश की शान देश की
देश की हम संतान है
तीन रंगों से रंगा तिरंगा
अपनी ये पहचान है

चलो फिर से आज वो नजारा याद करले
चलो फिर से आज वो नजारा याद करले
शहीदों के दिलो में थी जो वो ज्वाला याद करले
जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे
जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे
देशभक्ति के खून की वो धारा याद करले

चाँद में आग हो तो अम्बर क्या करे
समान ही दुष्ठ हो तो चमन क्या करे
मुझसे मेरे तिरंगे ने रो रोकर कहा
कुर्सियां ही भर्स्ट हो तो मेरा वतन क्या करे

वतन हमारा ऐसा कोई न छोड़ पाये
रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये
दिल एक है एक है जान हमारी
हिंदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है

आजादी का जोश कभी कम न होने देंगे
जब भी जरूरत पड़ेगी देश के लिए जान लूटा देंगे
क्योंकि भारत हमारा देश है
अब दोबारा इस पर कोई आंच न आने देंगे

वतन हमारा ऐसे न छोर पाए कोई
वतन हमारा ऐसे न छोर पाए कोई
रिश्ता हमारा ऐसा ना तोड़ पाए कोई
दिल है हमारे एक है एक है हमारी जान
दिल है हमारे एक है एक है हमारी जान
हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान

जान तो करदी हमने वतन के नाम पर
शान तो करदी हमने वतन के नाम पर
कुर्बानियों से पाई है हमने आज़ादी
हमारा वतन तो लाखों में एक है
आन भी करदी हमने वतन के नाम पर

नहीं सिर्फ जश्न मनाना नहीं सिर्फ झंडे लहराना
ये काफी नहीं है वतन पर यादों को नहीं भुलाना
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना
हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

ना सरकार मेरी है
ना रौब मेरा है
ना बड़ा-सा नाम मेरा है
मुझे तो एक छोटी सी बात का गर्व है
मैं हिंदुस्तान का हूँ और हिंदुस्तान मेरा है

मेरे हर कतरे-कतरे में हिंदुस्तान लिख देना
और जब मोत हो तन पे तीरंगे का कफन देना
यही खुवाहिश खुदा हर जन्म हिंदुस्तान वतन देना
अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना

सोचता हूँ क्या दे पाऊंगा
जो मैंने पाया है इस देश से
क्या मैं कभी चूका पाऊंगा
जो मैंने पाया है इस देश से
फैलाना है मुझे देश सम्मान की भावना
शायद इस तरह नज़र मिला पाऊंगा देश से

इंडियन होने पर करीए गर्व
मिलके मनाएं लोकतंत्र का पर्व
देश के दुश्मनों को मिलके हराओ
हर घर पर तिरंगा लहराओ

मैं तो सोया था गहरी नींद में
सरहद पर था जवान जागा रात सारी
ये सोच कर नींद मेरी उड़ गयी
जवान कर रहा रक्षा हमारी

भूख गरीबी लाचारी को
इस धरती से आज मिटायें
भारत के भारतवासी को
उसके सब अधिकार दिलायें
आओ सब मिलकर नये रूप में गणतंत्र मनायें
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

चलो करे देश का काम मिलकर
आओ बनाए देश का नाम मिलकर
देश रहे आबाद हम बने आज़ाद
बोलो वंदे मातरम साथ मिलकर

दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं
जय हिन्द जय भारत

देशभक्तों से ही देश की शान है
देशभक्तों से ही देश का मान है
हम उस देश के फूल है यारों
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है

आज मैं आपसे अपने दिल की बात कहना चाहता हूँ
हाँ वही अलफाज जो आप सुनना चाहते है
हाँ वही तिन अलफाज जो आपके दिल को छु ले
हैप्पी रिपब्लिक डे

एक सैनिक ने क्या खूब कहा है
मैं प्यार की खुशबू को महकता छोड़ आया हूँ
इस दिल की नन्ही-सी चिड़ियाँ को चहकता छोड़ आया हूँ
मुझे अपनी छाती से तू लगा लेना ऐ भारत माँ
मैं अपनी माँ को तरसता छोड़ आया हूँ

बता दो आज इन हवायों को
जला कर रखो इन चिरागों को
लहू देकर जो ली आजादी
टूटने ना देना ऐसे प्रेम के धागों को

ये नफरत बुरी न पालो इसे
दिलों में खलिश है निकालो इसे
न तेरा न मेरा न इसका न उसका
ये वतन है हम सब का बचा लो इसे

खूब बहती हे अमन की गंगा बहने दो
मत फैलाओ देश में दंगा रहने दो
लाल हरे रंग में न बाटो हमको
मेरे छत पर एक तिरंगा रहने दो

गांधी स्वपन जब सत्य बना
देश तभी जब गणतंत्र बना
आज फिर से याद करे वह मेहनत
जो थी कि वीरों ने और भारत गणतंत्र बना

गुजारिश है इन हवाओ से आज जरा तेज बहे
बात मेरे देश की शान तिरंगे को लहराने की

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी यह गुलिस्ताँ हमारा
ग़ुरबत में हों अगर हम रहता है दिल वतन में
समझो वहीं हमें भी दिल हो जहाँ हमारा
परबत वो सबसे ऊँचा हमसाया आसमाँ का
वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा
गोदी में खेलती हैं जिसकी हज़ारों नदियाँ
गुलशन है जिसके दम से रश्क-ए-जिनाँ हमारा
ऐ आब-ए-रूद-ए-गंगा वो दिन है याद तुझको
उतरा तेरे किनारे जब कारवाँ हमारा
मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना
हिन्दी हैं हम वतन है हिन्दोस्ताँ हमारा
यूनान-ओ-मिस्र-ओ- रोमा सब मिट गए जहाँ से
अब तक मगर है बाकी नाम-ओ-निशाँ हमारा
कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी
सदियों रहा है दुश्मन दौर-ए-जहाँ हमारा
‘इक़बाल’ कोई महरम अपना नहीं जहाँ में
मालूम क्या किसी को दर्द-ए-निहाँ हमारा
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी यह गुलिसताँ हमारा

संस्कार
संस्कृति और शान मिले
ऐसे हिन्दू
मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले

रहे हम सब ऐसे मिल-झुल कर
मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में भगवान मिले

ये नफरत बुरी है ना पालो इसे
दिलों में नफरत है निकालो इसे

ना तेरा
ना मेरा
ना इसका
ना उसका
ये सब का वतन है बचालो इसे

चलो फिर से खुद को जगाते हैं
अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं

याद करें उन शूरवीरों को क़ुरबानी
जिनके कारण हम इस लोकतंत्र का आनंद उठाते हैं

याद रखेंगे वीरो तुमको हरदम
यह बलिदान तुम्हारा है

हमको तो है जान से प्यारा यह गणतंत्र हमारा है

वतन हमारा ऐसा कोई न छोड़ पाये
रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये

दिल एक है एक है जान हमारी
हिंदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है

सारे जहाँ से अच्छा
हिन्दोस्ताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी
यह गुलिस्ताँ हमारा

दिल हमारा एक है एक है हमारी जान
हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान

अलग है भाषा
धर्म जात
और प्रांत
भेष
परिवेश
पर हम सब का एक ही गौरव है
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ

भूख
गरीबी
लाचारी को
इस धरती से आज मिटायें
भारत के भारतवासी को
उसके सब अधिकार दिलायें
आओ सब मिलकर नये रूप में गणतंत्र मनायें

कुछ कर गुजरने की गर तमन्ना उठती हो दिल में
भारत माँ का नाम सजाओ दुनिया की महफिल में
बलिदानों का सपना सच हुआ
देश तभी आजाद हुआ

आज सलाम करें उन वीरों को
जिनकी शहादत से ये गणतन्त्र हुआ

भारत के गणतंत्र का
सारे जग में मान
दशकों से खिल रही
उसकी अद्भुत शान

सब धर्मो को देकर मान रचा गया इतिहास का
इसलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास

वो शमा जो काम आये अंजुमन के लिए
वो जज्बा जो कुर्बान हो जाये वतन के लिए

रखते है हम वो हौसले भी जो
मर मिटे हिंदुस्तान के लिए
इस दिन के लिए वीरो ने अपना खून बहाया है
झूम उठो देशवासियों गणतंत्र दिवस फिर आया है

मैं तो सोया था गहरी नींद मैं
सरहद पर था जवान जगा रात सारी
ये सोच कर नींद मेरी उड़ गयी
जवान कर रहा रक्षा हमारी

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये

लहराएगा तिरंगा अब सारे आसमां पर
भारत का नाम होगा सब की जुबान पर
ले लेंगे उसकी जान या दे देंगे अपनी जान
कोई जो उठाएगा आँख हमारे हिंदुस्तान पर

नहीं सिर्फ जश्न मनाना
नहीं सिर्फ झंडे लहराना
ये काफी नहीं है वतन पर
यादों को नहीं भुलाना

जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना

हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

ना सरकार मेरी है
ना रौब मेरा है
ना बड़ा सा नाम मेरा है
मुझे तो एक छोटी सी बात का गर्व है
मैं “हिन्दुस्तान” का हूँ
और “हिन्दुस्तान” मेरा है

इंडियन होने पर करीए गर्व
मिलके मनाएं लोकतंत्र का पर्व

देश के दुश्मनों को मिलके हराओ
हर घर पर तिरंगा लहराओ

कुछ नशा तिरंगे की आन है
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है

हम लहराएँगे हर जगह ये तिरंगा
नशा ये हिंदुस्तान की शान का है

बता दो आज इन हवाओं को
जला कर रखो इन चिरागों को

लहू देकर जो ली आजादी
टूटने ना देना ऐसे प्रेम के धागों को

राष्ट्र के लिए मान-सम्मान रहे
हर एक दिल में हिन्दुस्तान रहे

देश के लिए एक-दो तारीख नही
भारत माँ के लिए ही हर सांस रहे

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा

पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये

आनेवाला हर दिन लाये खुशियों का त्यौहार – Aanevaala Har Din Laaye Khushiyon Ka Tyauhaar !

आनेवाला हर दिन लाये खुशियों का त्यौहार
सबके दिलों में हो सबके लिए प्यार
नया साल मुबारक हो तुझे मेरे यार
Happy New Year

Diwali Wishes In Hindi – हिंदी में दीवाली की शुभकामनाएं !

हैलो Everyone,आज हम आपके लिए लाये दीपावली पर शायरी हिन्दी में पर आज का आर्टिक्ल शुरू करने से पहले आप सभी को दीपावली की हार्धीक शुभकामनाये यह दिवाली का फेस्टिवल आपके लिए और आपके परिवार के लिए ढेर सारी खुशिया लेकर आए

आपको और आपके परिवार को Dynamichshayari.in की तरफ से दिवाली की ढेर सारी शुभकामनाये..

आज हम इस पोस्ट में दिवाली की बधाई के लिए बहुत ही उम्दा उम्दा शायरी ओर कौटेस लेकर आए है हम ऊमीद करते आपको पसंद आएगी..

दीप जलते जगमगाते रहे
हम आपको आप हमें याद आते रहे
जब तक ज़िन्दगी है
दुआ है हमारी
आप चाँद की तरह जगमगाते रहे
आप सभी को दिवाली मुबारक

 

धन की वर्षा हो इतनी की
हर जगह आपका नाम हो
दिन रात आपको व्यापार में लाभ हो
यही शुभकामना है हमारी
ये दीवाली आपके लिये बहुत ख़ास हो
दिवाली की शुभकामनाएं

 

चलो आज हम दीप जलाएं
मिलकर सब खुशियां मनाएं
भगवान ने हम को दी है खुशियां
तो क्यों ना सबको बांट के आए

 

मत जलाओ पटाखे मत जलाओ अनार
इन सब से होती जाती अपनी धरती बीमार
भुला दो नफरत सारी दिल से बस याद रखो सबसे करना प्यार
बस प्रदूषण मत होने देना तुम चाहे दीए जलाओ हजार

 

खुशियों का बाग लगे आंगन में
वो रात भी किस्मत वाली हो
दीपों से चमकता घर हो सारा
ऐसी मुबारक आपकी दिवाली हो

 

लक्ष्मी जी के आँगन में है सबने दीपों की मालों सजाई
दिवाली के इस पावन अवसर पर आपको कोटी कोटी बधाई

 

जगमग जगमग दीप जले हैं आज तक चारों ओर
ऐसी रोशनी हुई है धरती जिसका नहीं है कोई भी छोडर
रंगोली है सजा ली सबने लक्ष्मी जी हैं आने वाली
यही कामना मेरी है कि खुशियों से भरी हो आपकी दिवाली

 

खुशियों के इस त्यौहार में जब दीपों की माला सज जाती है
यह रात अंधेरी काली अमावस की पुर्णिमा में बदल जाती है

 

रोशन हुई है नगर सारी लोगों ने खुशियों के गीत गाए हैं
धन्य हो गई है धरा की जो भगवान राम वनवास काटकर आए हैं

 

बारिश हो घर खुशियों की लक्ष्मी जी भी घर में आए
जल जाए सब दुख आपके जब दिवाली पर दिया जलाएं

 

एक दुआ मांगते है
हम अपने भगवान से
चाहते है आपकी ख़ुशी पुरे ईमान से
सब हसरतें पूरी हो आपकी
और आप मुस्कुराएं दिल-ओ-जान सें

 

पटाखो की आवाज़ से गूंज रहा संसार
दीपक की रोशनी
ओर अपनो का प्यार
मुबारक हो आपको दिवाली का त्योहार

 

चारो और दिया और मोमबत्ती जलाओ
अपने घर को खूबसूरती से सजाओ
आज की रात फटाके जलाओ
ये दिवाली को एक अलग अंदाज से मनाओ

 

जगमग थाली सजाओ मंगल दीपो को जलाओ
अपने घरों और दिलों मैं आशा की किरण जगाओ
खुशियाँ और समृधि से भरा हों आपका जीवन
इसी कामना के साथ शुभ दीपावली

 

गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है
सितारों ने गगन से सलाम भेजा है
मुबारक हो आपको यह दिवाली
हमने तहे दिल से सलाम भेजा है

 

यह दिवाली आपके जीवन में खुशियों की बरसात लेकर आए
यह दिवाली आपके जीवन में खुशियों की बरसात लेकर आए
धन और सूरत की बरसात करें यह दिवाली
आपको दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं

 

रोशनी भी होगी होंगे चिराग भी
आवाज भी होगी होंगे साज भी
पर ना होगी उसकी परछाई ना उसकी आहट
बहुत सुनी हो गया दिवाली बिन सनम कैसे मिलेगी मुझको राहत

 

तमाम जहां जगमगाया फिर से रोशनी का त्यौहार
दिवाली आया कोई तुमको हमसे पहले ना दे दे बधाई
इसलिए यह पैगाम ये मुबारक सबसे पहले हमने भिजवाया
दिवाली की शुभकामनाएँ..

 

अपनों का हो प्यार
माँ लक्ष्मी का हो वास
खुशियाँ मिले हज़ार
दिवाली का त्यौहार हो इतना खास.

 

कह दो अंधेरों से कहीं और घर बना लें
मेरे मुल्क में रौशनी का सैलाब आया है

 

मुस्कुराते हंसते दीप जलाना
जीवन में नई खुशियां लाना
दुख दर्द अपने भूलकर सभी
अपने दोस्तों को तुम गले लगाना।

 

दिवाली पर्व है खुशियों का उजालों का लक्ष्मी का
इस दिवाली आपका जीवन खुशियों से भरा रहे
दुनिया उजालों से रोशन हो
घर पर सदा लक्ष्मी मां का आगमन रहे।

 

दीप जलते रहे मन से मन मिलते रहे
गिले-शिकवे सारे दिल से निकलते रहे
सारे विश्व में सुख शांति की प्रभात ले आए
यह दीपावली खुशियों की सौगात ले आए।

 

झिलमिलाते दियो की रौशनी से सजी ये महफ़िल बड़ा सताती है उसके साथ बनायीं वो दिवाली मुझे बहुत याद आती है

 

बिन सनम कैसे हम दीवाली मनाये तन्हाई मै ख़ुशी क डीप कैसे जलाये दीयों की रोशनी से जलाता है मेरा दिल केहदो इन दियो से ये दीवाली न मनाये.

 

दीपावली के शुभ अवसर पे याद आपकी आई शब्द शब्द जोड़ कर देते तुम्हें बधाई..

 

आया है रोशनी का ये त्योहार
संग लाया हर चेहरे पर मुस्कान
सुख और समृद्धि की बहार
समेट लो सारी खुशियाँ
अपनो का साथ और प्यार
इस पवन अवसर पर
आपको दीवाली का प्यार!!

 

लक्ष्मी जी विराजे आपके द्वार
जीवन में आए खुशियाँ अपार
दिवाली की शुभकामनाएँ हमारी करें स्वीकार

 

दुनिया भर की याद मैं हमें न भुला देना..
आए जब याद हमारी थोड़ा सा मुस्कुरा देना..
जरूर मिलेंगे हम अगर जिंदा रहें..
याद मैं हमारी दिवाली का एक “दिया” जला देना
“दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें”

 

आज दिवाली मनाने से पहले उन वीरों को शहीदों को भी याद करें
जो दिन रात हमारे चैन सुख के लिए सीमा पर मर मीट रहे हैं

 

दीयों की रोशनी से झिलमिलाता अनगन हो
पटाखो की गूंज से असमान रोशन हो
ऐसी आई झूम के यह दिवाली
हर तरफ खुशियों का मौसम हो

 

एक दुआ मंगते है हम अपने भगवान से.
चाहते है आपको खुशी पूरे ईमान से
सब हशर्टें पूरी हों आपकी
और आप मुस्कुराएँ दिलों जान से

 

कह दो अँधेरों से कहीं और घर बना लें अपना
मेरे मुल्क में रौशनी का सैलाब आया है

 

दिवाली के बाद की सुबह उनके लिए बड़ी खुशियाँ लेकर आती है.
कुछ पटाखे तुम बिना खरीदे ही दिवाली का जशन मना लिया कारों।

 

दीपावली के शुभ अवसर पर याद आपकी आय
शब्द शब्द जोड़ कर देते हैं तुम्हें बधाई
शुभ दीपावली

Mahatma Gandhi Par Shayari – महात्मा गांधी पर शायरी !

Quotes On Gandhi Jayanti In Hindi

जितने लोग गांधी के खिलाफ़ बोल रहे है
सब उनकी तस्वीर जेब में लिए घूम रहे है
हैप्पी गाँधी जयंती

अंग्रेजों के सामने झुके नहीं
ख़ुद से उनको ये आस था
शरीर में ताकत नहीं थी
पर मन में आजादी का विश्वास था
Happy Gandhi Jayanti

जिन्दगी में तुम अपने हमेशा ये याद रखना
सत्य और अहिंसा के जज्बात रखना
हैप्पी गाँधी जयंती

अगर दुनिया का हर इंसान गांधी हो जायें
दुनिया की सारे समस्याएं आधी हो जायें
गांधी जयंती की हार्दिक शुभकामनायें

गाँधी जी अच्छे लोगो के हृदय में विराजमान है
गांधी जी भारत देश की शान और सम्मान है

सत्य-अहिंसा के मार्ग पर अपने कदम आगे बढायें
2 अक्टूबर गाँधी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं

गांधी जी के विचारों को अपने मन में उतारना है
जन-जन को अपने योगदान से देश का भविष्य संवारना है

 

महात्मा गांधी पर कविता | Poem on Mahatma Gandhi in Hindi

गाँधी की राह पर चलने वाला
सत्य-अहिंसा की बात कहने वाला
एक नए युग को जीता है
गाँधी के आदर्शों को मानने वाला
Happy Gandhi Jayanti

जो सत्य-अहिंसा की ताकत को पहचानता है
वो महात्मा गाँधी के बताएं मार्ग पर चलता है
हैप्पी गाँधी जयंती

 

भारत के गौरव भारत की शान
गांधी जी थे व्यक्ति महान
दुश्मन भी जिसका करते थे मान
भारत का जन जन जिसका करता है सम्मान
ऐसे महात्मा गांधी के चरणों में मेरा शत शत प्रणाम
हैप्पी गाँधी जयंती

 

बापू पर शायरी
गांधी जी के ख़्वाबों को सच कर दिखाना है
देकर लहू का कतरा इस देश को बचाना है
बहुत भाषण दिया और आजादी के गाने गायें
परअब हमें भी देशभक्ति का फ़र्ज़ निभाना है
हैप्पी गाँधी जयंती

 

Gandhi Jayanti Shayari
सत्य-अहिंसा की ताकत समझे और दुनिया को समझायें
आपको सपरिवार गाँधी जयंती की हार्दिक शुभकामनायें

 

जो सत्य-अहिंसा के दम पर
अपने जीवन का हर विजय पाता है
जो हर मुश्किल घड़ी में धैर्य को अपनाता है
वही महात्मा गाँधी कहलाता है

 

जब महात्मा गांधी का जन्म दिवस आता हैं
हृदय शत-शत नमन करने को झुक जाता हैं

 

सत्य-अहिंसा का पाठ पढ़ाया है
बापू ने पूरे विश्व में भारत का मान बढ़ाया है

 

गांधी जी के सपनों को फिर से सजाना हैं
लहू का एक-एक कतरा देकर इस देश को बचाना हैं
बहुत गाये आजादी के गीत हमने
अब हमें भी दिल से देशभक्ति का फ़र्ज निभाना हैं
गाँधी जयंती की ढेर सारी शुभकामनाएं

 

गांधी एक विचार है
विचार कभी मर नहीं करते हैं
गांधी हमारे दिलों-दिमाग में
हमेशा जिन्दा रहेंगे
Happy Gandhi Jayanti

 

देखो कहीं बरबाद ना होए ये बगीचा
इसको हृदय के खून से बापू ने है सींचा
हम लाए हैं तूफ़ान से कश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के
हैप्पी गांधी जयंती

 

कर्म ही मेरी पूजा हैं
खादी मेरी शान है
सच्चा मेरा करम है
और हिन्दुस्तान मेरी जान हैं
गाँधी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं

 

सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलकर देखों
तुम्हारी जिन्दगी में आएगी बहार ही बहार
गांधी जयंती पर दिल खोलकर करों जय जय कार

 

Happy Gandhi Jayanti Shayari in Hindi

ओ परम तपस्वी परम वीर
ओ सुकृति शिरोमणि ओ सुधीर
कुर्बान हुए तुम सुलभ हुआ सारी दुनिया को ज्ञान
बापू तुम हो महान जन्मदिवस पे हम आपको करें शत-शत प्रणाम

 

जहाँ सत्य अहिंसा और धर्म का
पग-पग लगता डेरा
वो भारत देश है मेरा
Gandhi Jayanti Shayari in Hindi

 

जब जन जन बोला सत्य अहिंसा की बोली
तब गली-गली जली विदेशी कपड़ो की होली
हैप्पी गाँधी जयंती

 

सत्य का तेल अंहिसा की बाती
अमर ज्योति जलती रहे
तेरे पदचिन्हों पर बापू
दुनिया सारी चलती रहे
Gandhi Jayanti Shayari

 

सच्चाई का शस्त्र लेकर
और अहिंसा का अश्त्र लेकर
तूने देश अपना बचाया
गोरों को था दूर भगाया
दुश्मन से प्यार किया
मानव पर उपकार किया
गाँधी करते तुझे नमन
तुझे चढ़ाते प्रेम-सुमन।
Happy Gandhi Jayanti

 

अहिंसा का पुजारी
सत्य की राह दिखने वाला
ईमान का पाठ पढ़ा गया हमें
वो बापू लाठी वाला
Gandhi Jayanti Shayari

 

देश के लिए जिसने ऐशो आराम को ठुकराया था
त्याग विदेशी वस्त्र उसने खुद ही खादी बनाया था
पहन के काठ के चप्पल जिसने आजादी का गीत गाया था
देश का था वो अनमोल दीपक जो महात्मा कहलाया था
हैप्पी गांधी जयंती

 

2 October Gandhi Jayanti Shayari | Gandhi Jayanti Shayari | Gandhi Jayanti Status

दे दी हमे आज़ादी
बिना खडग बिना ढाल
साबरमती के संत
तूने कर दिया कमाल
Happy Gandhi Jayanti

 

धोती वाले बापू की
ये ऐसी एक लड़ाई थी
न गोले बरसाये उन्होंने
न बन्दूक चलाई थी
सत्य-अहिंसा के बल पर ही
दुश्मन को धूल चटाई थी
हैप्पी गाँधी जयंती

 

कहाँ गयी वो तेरी अहिंसा
कहाँ गया वो प्यार
गांधी तेरे देश में
ये कैसा अत्याचार
Happy Gandhi Jayanti

 

महानायक वो आजादी का
अटल अहिंसावादी था
गोरों को भारत से मार भगाया
जिसके तन पर वस्त्र खादी था

 

सत्य और अहिंसा के ताकत को जिसने समझाया
इसका प्रयोग कर पूरी दुनिया को दिखाया
हैप्पी गाँधी जयंती

 

राष्ट्रपिता है गांधी जी
महात्मा है गांधी जी
साबरमती के संत भी कहलाते है गांधी जी
बिना शस्त्र उठाये देश को आजादी दी
अहिंसा की राह पर सदा चले गांधी जी

 

गांधी जयंती पर पूरी दुनिया से यहीं कहना है
जिन्दगी का हर जंग सत्य और अहिंसा से जीतना है
हैप्पी गाँधी जयंती

 

Gandhi Shayari in Hindi

रघुपति राघव राजाराम
पतित पावन सीताराम
ईश्वर अल्लाह तेरे नाम
सबको सन्मति दे भगवान

 

Gandhi Jayanti Shayari in Hindi

अहिंसा का वो पुजारी
जिसने हिम्मत नहीं हारी
कुर्बान कर दी अपनी जान को
जिसका जन जन है आभारी
Happy Gandhi Jayanti

 

दुबला-पतला साधारण सा वेश था
वो कभी नहीं करते थे अभिमान
खादी की एक धोती पहनते थे
जो बढ़ाती थी बापू की शान
Happy Gandhi Jayanti

42+ Romantic Shayari In Hindi 42 से भी ज्यादा रोमांटिक शायरी हिन्दी में !

Romantic Shayari In Hindi – क्या आपका मिजाज रोमांटिक है और आप अपने पार्टनर के साथ रोमांटिक होना चाहते है तो आज हम आपके लिए रोमांटिक शायरी की Huge कलेक्शन लाये है जिसे आप अपने पार्टनर के साथ कर सकते है और उनके साथ रोमांटिक हो सकते है हम ऊमीद करते है आपको रोमांटिक शायरी पर हमारा यह आर्टिक्ल पसंद आएगा 

So Let’s Begin 

Behtarin Romantic Shayari Or Bahut Romantic Shayari

 

की है कोई हसीन खता हर खता के साथ
थोड़ा सा प्यार भी मुझे दे दो सज़ा के साथ

 

रुका हुआ है अज़ब धूप-छाँव का मौसम
गुजर रहा है कोई दिल से बादलों की तरह

 

ये तेरे इश्क का कितना हसीन एहसास है
लगता है जैसे तू हर-पल मेरे साथ है
मोहब्बत तेरी दीवानगी बन चुकी है मेरी
अब जिंदगी की आरज़ू सिर्फ तेरा साथ

 

मेरे दिल का कहा मानो एक काम कर दो
एक बेनाम सी मोहब्बत मेरे नाम कर दो
मेरे ऊपर एक छोटा सा एहसान कर दो
एक दिन सुबह को मिलो और शाम कर दो

 

हम ने सीने से लगाया दिल न अपना बन सका
मुस्कुरा कर तुम ने देखा दिल तुम्हारा हो गया

 

तुमको दे दी है इशारों में इजाज़त मैंने
माँगने से न मिल सकूं तो चुरा लो मुझको

 

हमारे इश्क़ को यूं न आज़माओ सनम
पत्थरों को धड़कना सिखा देते हैं हम

 

तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे मगर
हमारी बेचैनियों की वजह बस तुम हो

 

तेरे खामोश होंठों पर मोहब्बत गुनगुनाती है
तू मेरा है मैं तेरा हूँ बस यही आवाज़ आती है

 

एक चाहत है सिर्फ आपके साथ जीने की
वरना मोहब्बत तो किसी से भी हो सकती है

 

धड़कते हुए दिल का करार हो तुम
इन सजी महफिलों की बहार तो तुम
तरसती हुयी निगाहों का इंतज़ार हो तुम
मेरी जिंदगी का पहला प्यार हो तुम

 

तेरे नाम से मोहब्बत की है
तेरे एहसास से मोहब्बत की है
तू मेरे पास नहीं फिर भी
तेरी याद से मोहब्बत की है

 

नजर से नजर को मिलाओ नजर का ऐतबार करो
हम तुम से सनम और तुम हम से प्यार करो
तुम जो रूठो तो कुछ भी करके मनाएं तुमको
हम जो पल भर को जायें तो तुम इंतज़ार करो

 

ये कैसा सिलसिला है तेरे और मेरे दरमियाँ
फासले तो बहुत हैं मोहब्बत कम नहीं होती

 

चूमना क्या उसे आँखों से लगाना कैसा
फूल जो डाल से गिर जाये तो उठाना कैसा
अपने होंठों की हरारत से जगाओ मुझको
यूँ सदाओं से दम-ए-सुबह जगाना कैसा

 

बहके बहके ही अंदाज-ए-बयां होते हैं
जब आप होते हैं तो होश कहाँ होते हैं

 

किस किस तरह छुपाऊं अब मैं तुम्हें
मेरी मुस्कान में भी तुम नजर आने लगे हो

 

मेरे हाथों की लकीरों में समाने वाले
कैसे छीनेंगे तुझे मुझसे ज़माने वाले

 

जिंदगी बन गए हो तुम मेरी
आरजू बन गए हो तुम मेरी
मेरा खुदा माफ़ करे मुझे
बंदगी बन गए हो तुम मेरी

 

लोगों ने रोज ही नया कुछ माँगा खुदा से
एक हम ही हैं जो तेरे ख्याल से आगे न गये

 

सुबह उठते ही तेरे जिस्म की खुशबू आई
शायद रात भर तूने मुझे ख्वाब में देखा है

 

चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो
साँसों में खुशबू बन के बिखर जाते हो
कुछ यूँ चला है आपके प्यार का जादू
सोते-जागते बस तुम ही नजर आते हो

 

शाम होते ही तेरे प्यार की पागल खुशबू
नींद आँखों से सुकून दिल का चुरा लेती है

 

सामने बैठे रहो दिल को करार आएगा
जितना देखेंगे तुम्हें उतना ही प्यार आएगा

 

फिजा में महकती शाम हो तुम
प्यार का छलकता जाम हो तुम
सीने में छुपाये फिरते हैं तुम्हें
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हो तुम

 

मैने कब तुझसे ज़माने की खुशी माँगी है
एक हल्की-सी मेरे लब पे हँसी माँगी है
सामने तुझको बिठाकर तेरा दीदार करूँ
जी में आता हैं जी भर के तुझे प्यार करूँ

 

मंजिल भी तुम हो तलाश भी तुम हो
उम्मीद भी तुम हो आस भी तुम हो
इश्क भी तुम हो और जूनूँ भी तुम ही हो
अहसास तुम हो प्यास भी तुम ही हो

 

उदास लम्हों की न कोई याद रखना
तूफान में भी वजूद अपना संभाल रखना
किसी की ज़िंदगी की ख़ुशी हो तुम
बस यही सोच तुम अपना ख्याल रखना

 

आँखों में आँखें डालकर तुम्हारा दीदार
ये कशिश बयाँ करना मेरे बस की बात नही

 

एक शब गुजरी थी तेरे गेसुओं के छाँव में
उम्र भर बेख्वाबियाँ मेरा मुकद्दर हो गयीं

 

मेरे वजूद में काश तू उतर जाए
मैं देखूं आइना और तू नजर आये
तू हो सामने और वक्त ठहर जाए
और तुझे देखते हुए जिंदगी गुज़र जाए

 

ये लकीरें ये नसीब ये किस्मत
सब फ़रेब के आईने हैं
हाथों में तेरा हाथ होने से ही
मुकम्मल ज़िन्दगी के मायने हैं

 

आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
कितना ख्वाबों में तुझे और तलाशा जाए

 

रूबरू मिलने का मौका मिलता नहीं है रोज
इसलिए लफ्ज़ों से तुमको छू लिया मैंने

 

इससे ज़्यादा तुझे और कितना करीब लाऊँ मैं
कि तुझे दिल में रख कर भी मेरा दिल नहीं भरता

 

हक़ीक़त ना सही तुम ख़्वाब बन कर मिला करो
भटके मुसाफिर को चांदनी रात बनकर मिला करो

 

कभी लफ्ज़ भूल जाऊं कभी बात भूल जाऊं
तूझे इस कदर चाहूँ कि अपनी जात भूल जाऊं
कभी उठ के तेरे पास से जो मैं चल दूँ
जाते हुए खुद को तेरे पास भूल जाऊं

 

तुम मिल गए तो मुझ से नाराज है खुदा
कहता है कि तू अब कुछ माँगता नहीं है

 

मेरी बाँहों में बहकने की सज़ा भी सुन ले
अब बहुत देर में आज़ाद करूँगा तुझको

 

अल्फाज़ की शक्ल में एहसास लिखा जाता है
यहाँ पर पानी को प्यास लिखा जाता है
मेरे जज़्बात वाकिफ से है मेरी कलम भी
प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिखा जाता है

 

तुम नहीं होते हो तो बहुत खलता है
प्यार कितना है तुमसे पता चलता है

Let’s Wrap It

हम आशा करते है आपको romantic shayari पर हमारा यह आर्टिक्ल पसंद आया होगा अगर आपको यह आर्टिक्ल पसंद आया तो इस इस पोस्ट को अपने सोश्ल मीडिया अकाउंट पर शेर करें अगर आपको कोई सवाल हो तो आप हुमें कमेंट बॉक्स में सुगगेस्ट कर सकते है !