Jai Shri Ram Shayari With Images – जय श्री राम शायरी इमेजेज के साथ !

अनपढ़ लोगो की वजह से ही हमारी मातृभाषा बची हुई हैं साहबवरना पढ़े हुए कुछ लोग तो राम राम बोलने में भी शरमाते हैं

अन्य के लिए जो रक्त बहाये मातृभूमि का जो देशभक्त कहलायेगर्जन से शत्रु का तख़्त हिलाये असुरो से पृथ्वी को विरक्त कराये वही असली राम भक्त कहलाये

अभिमन्यु की एक बात बड़ी शिक्षा देतीं हैं”हिम्मत से हारना पर हिम्मत मत हारना“ जय सियाराम

अयोध्या के फटे तंबू में पड़ा तुम्हारी “नामर्दी” का प्रमाण हूँहिन्दुओ में वही रावण का वध करने वाला दशरथ पुत्र राम हूँ

अयोध्या के वासी राम रघुकुल के कहलाये रामपुरुषों में हैं उत्तम राम सदा जपों हरी राम का नाम

अरे कब खुलेंगी तुम्हारी आंख हिंदुओ जयश्रीराम बोलने में डर कैसादहेज मांग सकते हो लेकिन अपने भगवान का घर नही जय श्री राम

आज दुनिया ने रामसेतु का सच स्वीकार कर लिया हैंदेश के लोग तो अदालत में लिख के दे आए थे श्रीराम सिर्फ़ कल्पना हैं

काश मैं ऐसी शायरी लिखूँश्री राम तेरी याद में तेरी तस्वीर दिखाई दे हर अल्फ़ाज़ में

कितने महान रहे होंगे वो वानर जिन्होंने मिल कर राम सेतु बना दियाहम सौ करोड़ हो कर भी एक राम मंदिर नही बना पा रहे

गंगा बड़ी गोदावरी तीरथ बड़ा प्रयागसबसे बड़ी अयोध्या नगरी जहां राम लिये अवतार

गली-गली में ऐलान होना चाहिए हर मंदिर में राम होना चाहिएइतना तो गुणगान होना चाहिए मिले किसी से तो जय श्रीराम होना चाहिए

गूंजता रहेगा सदियो तक एक ऐसा अंजाम लिख देगेलहू के हर एक कतरे से जय श्री राम लिख देंगे

चप्पा चप्पा भर जाएगा श्रीराम के दीवानों सेसारा देश गूंज उठेगा जय सियाराम के जयकारों से

जंगल मे छाती चोडी करके शेर चला करते हैंओर हिन्दूस्तान में छाती चोडी करके रामभक्त चला करते हैं

जय श्री राम का नारा लगा के हम दुनियाँ में छा गयेहमारे दुश्मन भी छुपकर बोले वो देखो जय श्री राम के भक्त आ गये

जय श्री राम जय श्री हनुमान

जागरूक जब हम सब हो जाएंगे धर्मो की दीवार मिटायेंगेसतर्कता के संग माँ बहनों की लाज बचाएंगे राम राज्य का सपना पूर्णतः सच कर दिखाएंगे

ज़िन्दगी का क्या हैं हर पल सताएगीराम भक्तों का चुनौतियां कुछ ना कर पाएंगी

ज़िन्दगी की सलवटों को एक ओर मौका देंगे सुलझ जाने काआ गया हैं वक़्त जय सिया राम गुनगुनाने का

ज़िन्दगी की सलवटों को एक ओर मौका देंगे सुलझ जाने काआ गया हैं वक़्त जय सिया राम गुनगुनाने का

जो डूबे श्रीराम जी की मस्ती में चार चांद लग जाते उनकी हस्ती में

तैयारी कर लो रामनवमी की क्योंकि हमें मंदिर में भिड और सड़क पर तूफान चाहिएहाथों में भगवा और जुबान पर जय श्री राम चाहिए

दिल पर भगवा प्रेम छाया हैं राम राज फिर आया हैंदेख ताक़त हिन्दू की पूरा संसार घबराया हैं

देख तज के पाप रावण राम तेरे मन में हैंराम मेरे मन में हैं मन से रावण जो निकाले राम उसके मन में हैं

ना पैसा लगता हैं ना ख़र्चा लगता हैंराम राम बोलिये बड़ा अच्छा लगता हैं

पार ना लगोगे श्रीराम के बिना राम ना मिलेंगे हनुमान के बिना

प्यार का मतलब शरीर कभी नहीं होतावो आत्मा से होता हैं जैसे भरत जी को #श्रीराम जी से था

फतवा नहीं बस भगवा का नाम होगामेरे देश में अब सलाम नहीं सिर्फ जय श्रीराम होगा

बाल भी ना बाका होएगा जब मन लागे राम राम दोहराएपतझड़ हैं समझ कर भूल जा देख पपीहा भी सावन की राह दिखाए

बेरोजगारी क्या हैं मन का वहम राम भक्त देंगे नए नए उद्योगों को जन्म

बेशक पहन लो हमारे जैसे कपड़ें और ज़ेवरपर कहा से लाओगे राम भक्तो वाले तेवर

भारत का जन्म -पता नही पाकिस्तान का जन्म -1947 मेंऔर श्री भगवत गीता में लिखा हैं कि जिसका जन्म होता हैं उसकी ‘मृत्यु” निश्चित हैं

मंजिले मुझे छोड़ गई रास्तो ने पाल लिया हैंजा जिंदगी तेरी जरुरत नही मुझे श्रीराम ने सम्भाल लिया हैं

मन राम का मंदिर हैं यहाँ उसे विराजे रखनापाप का कोई भाग नहीं होगा बस राम को थामे रखना

मर्यादा पाँव में कब तक जंजीर डालेगीमाथे पर तिलक लगाकर चला करो यही पहचान दुश्मन का कलेजा चीर डालेगी

महाकाल की भस्म के लिये दुनिया भुला देंगेतो सोचो श्रीराम के मंदिर के लिये कितनो को सुला देंगे

माला से मोती तुम तोड़ा ना करो धर्म से मुँह तुम मोड़ा ना करोबहुत कीमती हैं जय श्री राम का नाम जय सियाराम बोलना कभी छोड़ा ना करो

मुसलमान भी दवा बेचते वक्त कहता हैंरामबाण इलाज हैं अल्लाबाण नही ऐसी महिमा हैं राम नाम की

मुहर्रम में महादेव बसें रमज़ान में रामसंपूर्ण राष्ट्र में भगवा बसे ऐसा हो मेरा हिंदुस्तान प्रेम से बोलिए जय श्री राम

मैं जय श्री राम लिखूंगा तुम मुझे कट्टर समझ लेना

मोर की खूबसूरती पंख से होती हैं उसी तरहहमारी खूबसूरती श्रीराम के भगवा रंग से होती हैं

ये जमाना राम-राज्य को मीटाना चाहता हेंलेकीन इस ज़माने मैं उतना दम नही क्युकि जमाना हमसे पैदा हुआ हें हम ज़माने से नही

रक्त नहीं वो पानी हैं जो श्रीराम ना बोले वो पकिस्तानी हैं

रा से राम हैं रा से राहत हैं राम वो हैं जो राहत देता हैंजो आहत करे वो राम नहीं रावण हैं राहत साहब की शायरी में राहत हैं

रात हो या दोपहरी संकट हरेंगे श्री हरि

राम जी की कृपा हर उस पर बरसती हैंजो राहों में सबकी फूल बिछाते हैं कांटो भरे विचारों से अपने जीवन को बचाते हैं

राम जी की धुन में जिये जा रहे हैंहर पल को मुस्कुराहट लिए बस जिये जा रहे हैं

राम जी के विचारों से एक नई क्रांति आएगीजन जन में आशा की नई अलख जग जाएगी

राम नाम का फल हैं मीठा कोई चख के देख लेखुल जाते हैं भाग कोई पुकार के देख ले

राम नाम का महत्तव ना जाने वो अज्ञानी अभागा हैंजिसके दिल में राम बसा वो सुखद जीवन पाता हैं जय सियाराम

राम भक्त को जंजीरो में कैद करने का सपना मत देखक्युंकि हम वो आदमखोर शेर हैं जिसका भी शिकार करतें हैं उसका जिस्म तो क्या रूह भी दम तोड़ देती हैं

राम भी हैं Ramsetu भीजरूरत हैं रामायण के शब्दों में छिपे भावों को समझने की

राम हमारे गौरव के प्रतिमान हैं राम हमारे भारत की पहचान हैं जयश्रीराम जयहिंद

राम हमारे गौरव के प्रतिमान हैंराम हमारे भारत की पहचान हैं #जय सियाराम

रामायण का पाठ ज़िन्दगी को आसान बनाता हैंहर पल कुछ नया करने का पाठ पढ़ाता हैं

रामायण का पाठ ज़िन्दगी को आसान बनाता हैंहर पल कुछ नया करने का पाठ पढ़ाता हैं जय सियाराम

लाल रंग हैं तन में श्री राम बसे उनके मन मेंप्रेम गीत गए जो नाम राम का हैं हनुमान वो जो झुके राम के चरण में

वक़्त बुरा हैं तो भला हो जाएगा कुछ ही पलों में रूह को सुकून का किनारा मिल जाएगाबजरंग बली के चरणों मे सर रखने भर से सुखों का खजाना मिल जाएगा

वैसे तो हम जानी मानी हस्ती नही हैं ना ही बङे इंसान हैंलेकिन जब भी रास्ते से गुजरते हैं तो दुश्मन के मुँह से भी निकल जाता हैं वो जा रहे श्रीराम के दीवाने

शोक उचे हैं रुतबा ऊँचा हैं राम भक्तो के आगे ये ज़माना झुकता हैं

श्री राम की भक्ति में दिन चैन से गुजरते हैंराम नाम की शक्ति से हम गम रूपी सागर में भी आराम से तरते हैं

श्री राम जय राम जय जय राम हरे राम हरे राम हरे रामहनुमान जी की तरह जपते जाओ अपनी सारी बाधाएं दूर करते जाओ

श्रीराम का वंशज हूँ मैं गीता ही मेरी गाथा हैंछाती ठोक के कहता हूँ भारत ही मेरी माता हैं

संगे मरमर की तू बात ना कर मुझसे मैं अगर चाहूँ तो एहसास-ऐ-मोहब्बत लिखदुताज महल भी झूख जाएगा चूमने के लिए मैं जो एक पथ्थर पे राम नाम लिखदु

सुप्रीम कोर्ट कहती हैं की राम भक्तो को आरक्षण की जरूरत नहीं हैंएक बात बताता हूँ मैं की आरक्षण की क्या हम रामभक्तो को सुप्रीम कोर्ट की भी जरूरत नहीं हैं

सुबह सुबह लो राम का नाम पूरे होंगे बिगड़े अधूरे काम

हम पर ऊँगली सोच समझ कर उठानाहम राम भक्त हैं मारते नहीं मार डालते हैं

हम हिन्दू हैं हिन्दुत्व की बात करेंगेएक बार क्या सौ बार जय श्री राम कहेंगे

हमने तो मौत को भी कह रखा हैं जब तक हमारे प्रभु श्री राम का मंदिर नही बन जाताहमारे आसपास भी ना भटके वरना दौड़ा दौडा कर मारेंगे

हरी और हर में मुझे कोई अंतर नहींराम और शिव में मुझे कोई फर्क नहीं

हाथ में तलवार हैं वाणी की भी धार हैंफिर भी रहते शांत हैं क्योंकि श्रीराम के संस्कार हैं

हिन्दुओं से राम का सबूत तब तक मांगा जाता रहेगा जब तक वो राम बने रहेंगेजिस दिन परशुराम बन गये बाबर की औलादें भी बोलेंगी जयश्रीराम

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई देते एक दूजे को त्योहारों की बधाईभाईचारे ने इनके राम राज्य की कल्पना सच कर दिखाई

हे राम तेरे नाम से बन जाते हैं बिगड़े कामहे राम तेरे नाम से पुण्य मिले जैसे दर्शन करे चारो धाम

हे राम पूरे करदो बिगड़े काम मेरी मोहब्बत को देदो अंजाम

Let’s wrap it,

और शायरी पढ़े 😉 

Happy Independence Day Shayari – स्वतंत्रता दिवस शायरी !

एक दिन मन ही मन हमने ख्वाब बुन लिया औरों को दुपट्टा रास आया मैंने तिरंगा चुन लिया

जहान के सबसे बड़े लोकतंत्र और शांति प्रिय देश का नागरिक होने पर मुझे असीम गर्व है आज़ादी दिवस की शुभकामनायें!

जिन की पत्नी वेकेशन करने मायके चली गई है वो स्टेटस पर तिरंगा लगा कर अपनी आज़ादी का ऐलान कर सकते हैं

ज़श्न आज़ादी का यूँ मनाया जाये दर्द हर दिल का मोहब्बत से मिटाया जाए Happy Independence Day

दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फ़त मेरी मिट्टी से भी ख़ुशबू-ए-वफ़ा आएगी Happy Independence Day

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं Wishing you Happy 15 August

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं Wishing you Happy 15 August

देश भक्तों के बलिदान से स्वतंत्र हुए हैं हम कोई पूंछे कोन हो तो गर्व से कहेंगे भारतीय हैं हम स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

देश मेरा क्या बाज़ार हो गया है पकड़ता हूँ जो तिरंगा हाथ में लोग पुछते है “कितने का है ” Happy Independence Day

भारत मेरा राम है मैं इसका हनुमान हूँ छाती चीर के देख लो अंदर बैठा हिंदुस्तान है! वन्दे मातरम्!

भारत मेरा राम है मैं इसका हनुमान हूँ छाती चीर के देख लो अंदर बैठा हिंदुस्तान है! वन्दे मातरम्!

मैं अमन पसंद हूँ मेरे शहर में दंगा रहने दो हरे और लाल में मत बाँटो मेरी छत पर तिरंगा रहने दो Independence Day Ki Shubh Kaamnaayein

यक़ीन हो के ना हो बात तो यक़ीन की है हमारे जिस्म की मिट्टी इसी ज़मीन की है राहत इंदौरी

वो अब पानी को तरसेंगे जो गंगा छोड़ आये हैं हरे झंडे के चक्कर में तिरंगा छोड़ आये हैं राहत इंदौरी

हम अपने खून से लिक्खें कहानी ऐ वतन मेरे करें कुर्बान हँस कर ये जवानी ऐ वतन मेरे दिली ख्वाहिश नहीं कोई मगर ये इल्तिजा बस है

आओ देश का सम्मान करें शहीदों की शहादत को याद करें आओ “स्वतंत्रता दिवस” पर देश को सलाम करें Happy Independence Day

आओ देश का सम्मान करें शहीदों की शहादत याद करें एक बार फिर से राष्ट्र की कमान हम हिंदुस्तानी अपने हाथ धरे

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता नोटों में भी लिपट कर सोने में सिमटकर मरे हे कई मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

तैरना है तो समंदर में तैरो छोटे-मोटे नदी-नालों में क्या रखा है प्यार करना है तो वतन से करो इन बेवफ़ा लोगों में क्या रखा

बेबी को बेस पसन्द हैं सलमान को केस पसन्द हैं मोदी को विदेश पसन्द हैं और मुझे मेरा देश पसंद हैं

मुझे न तन चाहिए न धन चाहिए बस अमन से भरा यह वतन चाहिए जब तक ज़िंदा रहूं इस मातृभूमि के लिए और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिए

ये बात हवाओं को बताये रखना रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना लहू दे कर जिसकी हिफाज़त हमने की ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना

अगर हम आज़ाद न होते तो हमारे दिल यूं आबाद न होते ग़ुलामी की ज़ंजीरें पैरों में होती और देख-देख कर रोते Happy Independence Day

अगर हिन्दोस्ताँ को अंग्रेजों ने न लूटा होता पूरा जहाँ हमारे क़दमों में होता हवा फिर भी बदली लगती से क्या होगा सुना है अमरीका डर रहा है भारत फिर से सोने की चिड़िया होगा Happy Independence Day

आओ देश का सम्मान करें शहीदों की शहादत याद करें मेरा देश सदा रहे खुशहाल ऐसी परवरदिगार से फ़रियाद करें Wish you Happy Independence Day

आज़ादी की कभी शाम न होने देंगे शहीदों की क़ुरबानी बदनाम न होने देंगे बची हो जो एक बूँद भी लहू की तब तक भारत माँ का आँचल नीलम न होने देंगे स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूं अपनी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूं अपनी छाती से मुझे तू लगा लेना भारत मां मुझे अपनी छाती से लगा लेना तू भारत मां मैं अपनी मां की बाहों को तरसता छोड़ आया हूं

कुछ नशा तिरंगे की आन का है कुछ नशा मातृभूमि के मान का है हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है! Happy Independence Day 15 August

खाई जिन्होंने सीने पर गोली हम उनको प्रणाम करते हैं जो मिट गए देश पर हम सब उनको सलाम करते हैं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

चलो फिर से आज वो नज़ारा याद कर लें शहीदों के दिल में थी जो आग याद कर लें जिसमें बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे देश भगतों के खून की वो धारा याद कर लें स्वतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

तेरे दामन को कभी चाक न होने देंगे तुझ को जीते हैं तो ग़मनाक न होने देंगे ऐसी इक्सीर को यूँ ख़ाक न होने देंगे जी में ठानी है यही जी से गुज़र जायेंगे कम से कम वादा ये करते हैं के मर जायेंगे

दुनिआ भर में मिलते हे आशिक कई लेकिन वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता नोटों में भी लिपट कर सोने में सिमटकर मरे हैं कई मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता! Happy Independence Day

नहीं सिर्फ जश्न मनाना नहीं सिर्फ झंडे लहराना यह काफी नहीं इतनी सी वतनपरस्ती यादों को न भुलाना जो क़ुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना अपने लिए नहीं ज़िन्दगी वतन के लिए निभाना Happy Independence Day

ना यहाँ जिन्दगी बड़ी हैं ना यहाँ रिश्ते बड़े हैं वो बड़े हैं यहाँ मेरे दोस्त जो जिन्दगी और रिश्तों को भुलाकर सरहद पर खड़े हैं

बहे ज़मीं पे जो मेरा लहू तो ग़म मत करना इसी ज़मीं से महकते गुलाब पैदा करना तुम इंक़लाब की आमिद का इंतज़ार मत करना जो हो सके तो खुद ही इंक़लाब पैदा करना Happy Independence Day

ये नफरत बुरी है न पालो इसे दिलों में खलिश है निकालो इसे न तेरा न मेरा न इसका न उसका ये सबका वतन है बचा लो इसे स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

लंदन देखा पेरिस देखा और देखा जापान सारे जग में कहीं नहीं है दूसरा हिन्दुस्तान

संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे हम मिलजुल के रहे ऐसे की मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे Happy Indian Independence Day

हिन्दू हैं या मुस्लिम हैं या सिख हैं या ईसाई हैं प्रेम ने सब को एक किया है प्रेम के हम शैदाई हैं भारत नाम के आशिक़ हैं हम भारत के शौदाई हैं भारत प्यारा देश हमारा सब देशों से न्यारा है अफ़सर मेरठी

Shayari On Hard Work – मेहनत पर शायरी हिन्दी में !

Shayari On Hard Work In Hindi – HardWork (मेहनत) यह एक ऐसा छोटा सा शब्द है जो हमारी जिन्दगी में बहुत महत्पूर्ण होता है जिसके बिना जीवनयापन करना एक कल्पना के सामान है अगर आपको जिंदगी में कुछ भी पाना है तो आपको जिंदगी में मेहनत करना बहुत ही जरुरी है चाहे वह मेहनत आप शारीरिक करें या मानसिक पर आपको मेहनत करना ही पड़ेगा

हा यह हो सकता है की आपको कई बार मेहनत का फल देर से मिलता है पर मिलता जरुर है अगर आप जीवन में सफलता प्राप्त करना चाहता है तो उसका एकमात्र आधार मेहनत ही है आप अपने जीवनकाल में जितना hardwork करोगे आप उतना ही अपने जीवन में सफल होते जायेंगे इस बात को ध्यान में रखते हुए हम Shayari On Hard Work मेहनत पर शायरी आपके लिए लाये है हम उमीद करते है आपको पसंद आएँगी तो चलिए चलते है आज मेहनत पर शायरी कलेक्शन पर Let’s Go

मेहनत पर शायरी पढ़े 😉 

अपने हौसलों के बल पर हम
अपनी प्रतिभा दिखा देंगे
भले कोई मंच ना दे हमको
हु मंच अपना बना लेंगे

मेहनत से उठा हूँ मेहनत का दर्द जानता हूँ
आसमाँ से ज्यादा जमीं की कद्र जानता हूँ
छोटे से बडा बनना आसाँ नहीं होता
जिन्दगी में कितना जरुरी है सब्र जानता हूँ
मेहनत बढ़ी तो किस्मत भी बढ़ चली
छालों में छिपी लकीरों का असर जानता हूँ
बेवक़्त बेवजह बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ
काफी कुछ पाया पर अपना कुछ नहीं माना
क्योंकि एक दिन राख में मिलना है ये जानता हूँ

ध्यान केन्द्रित कर कठिन परिश्रम करना ही
सफलता की असली चाबी हैं

‘भाग्य’ के दरवाजे पर सर पीटने से बेहतर हैं
‘कर्म’ का तूफ़ान पैदा करे सारे दरवाजे खुल जायेंगे

कर्म भूमि पर फ़ल के लिए श्रम सबको करना पड़ता हैं
रब सिर्फ़ लकीरें देता हैं रंग हमको भरना पड़ता हैं

चलता रहूँगा पथ पर
चलने में माहिर बन जाऊँगा
या तो मंजिल मिल जायेगी या
अच्छा मुसाफ़िर बन जाऊँगा

हौसला कम न होगा
तेरा तूफ़ानों के सामने
मेहनत को इबादत में
बदल कर तो देख
ख़ुद ब ख़ुद हल होगी
जिन्दगी की मुश्किलें
बस ख़ामोशी को सवालों में
बदल कर तो देख

टूटने लगे होसले तो ये याद रखना
बिना मेहनत के तख्तों-ताज नही मिलते
ढूंढ लेते हैं अंधेरों में मंजिल अपनी
क्योकि जुगनू कभी रौशनी के मोहताज नही होते

जब हौसला बना लिया ऊँची उड़ान का
फिर देखना फ़िजूल हैं कद आसमान का

पसीने की स्याही से जो लिखते हैं इरादें को
उसके मुक्कद्दर के सफ़ेद पन्ने कभी कोरे नही होते

जीतेंगे हम ये ख़ुद से वादा करों
कोशिश हमेशा ज्यादा करों
किस्मत भी रूठे पर हिम्मत न टूटे
मजबूत इतना इरादा करो

let’s wrap it,

हम आशा करते है आपको मेहनत पर शायरी Shayari On Hard Work पसंद आई होगी अगर आपको मेहनत पर शायरी पसंद आई तो इस आर्टिकल को अपने सभी दोस्तों के साथ सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर करें जिससे वह अपने Goal को अछे से मेहनत करके जल्द जल्द हासिल कर सके अगर आपको इस लेख से रिलेटेड कोई क्वेरी हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते है !

और शायरी पढ़े 😉