ये कैसा सिलसिला है – Ye Kaisa Silsila Hai Romantic Shayari

ये कैसा सिलसिला है तेरे और मेरे दरमियाँ
फासले तो बहुत हैं मोहब्बत कम नहीं होती

Leave a Reply