माँ के दर पर – Maa Ke Dar Par !

क्या पापी क्या घमंडी माँ के दर पर
सभी शीश झुकाते हैं मिलता है चैन
तेरे दर पे मैया झोली भरके सभी जाते हैं

Spread the love

Leave a Comment