नफ़रत करना तो कभी सीखा ही नहीं जनाब

नफ़रत करना तो कभी सीखा ही नहीं जनाब,
हमने दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर..!!

Leave a Reply