Ab Bhee Barasaat Ki Raaton Mein – अब भी बरसात की रातों में !

अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है,
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाईयों की।

Leave a Reply