मुझे पागलो से दोस्ती करना पसंद है साहब – “aap Jis Par Aankh Band Karake Bharosa Karate Hain !

*मुझे पागलो से दोस्ती करना पसंद है साहब..
क्योंकि मुसीबत में कोई समझदार नहीं आता..!

Leave a Reply